Header Ads

डब्ल्यूएचओ की कुल फंडिंग का 15% अकेले अमेरिका देता है... WHO Funding



नई दिल्ली. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने डब्ल्यूएचओ की फंडिंग रोक दी है। उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ ने कोरोनावायरस को गंभीरता से नहीं लिया, जिसका खामियाजा पूरी दुनिया को भुगतना पड़ रहा है। अगर डब्ल्यूएचओ अपना काम सही से करता तो, महामारी दुनियाभर में नहीं फैलती। मरने वालों की संख्या भी काफी कम होती।


1948 में बने डब्ल्यूएचओ को अमेरिका हर साल सबसे ज्यादा मदद करता रहा है। डब्ल्यूएचओ की वेबसाइट के मुताबिक अमेरिका ने उसे दो साल में 893 मिलियन डॉलर यानी 6 हजार 876 करोड़ रुपए की मदद की है। ये डब्ल्यूएचओ की कुल फंडिंग का 15% है। इसका मतलब हुआ कि डब्ल्यूएचओ को दुनियाभर से जितनी मदद मिलती है, उसका 15% अकेले अमेरिका देता है। वहीं, चीन से अमेरिका से 10 गुना कम, यानी सिर्फ 86 मिलियन डॉलर (662 करोड़ रुपए) की मदद मिली।

No comments