Header Ads

AAP TAK NEWS : और कितनी लाशें बिछाएगा कोरोना? दुनियाभर में मौत का आंकड़ा 203,270 पार, एक चौथाई मौत सिर्फ अमेरिका में !

कोरोना वायरस महामारी के कारण दुनियाभर में मरने वालों की संख्या दो लाख से ज्यादा हो गई है, जिनमें से दो तिहाई सबसे बुरी तरह प्रभावित यूरोप से हैं। वहीं, दुनियाभर में कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों में से एक चौथाई लोगों की मौत अमेरिका में हुई है। इसके अलावा संक्रमण के एक तिहाई से अधिक मामले भी अमेरिका में सामने आए हैं।
                              
चीन के वुहान शहर से शुरू हुई कोरोना वायरस वैश्विक महामारी से अभी तक दुनियाभर में 203,272 लोगों की मौत हो चुकी है और 29 लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं। इनमें से अमेरिका में 53,511 लोग अब तक मौत का शिकार हो चुके हैं। वहीं, खतरनाक कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में 836,941 लोग ठीक हो चुके हैं। 
अमेरिका में सबसे ज्यादा मौत
आंकड़ों के मुताबिक,दुनिया में अमेरिका अब कोरोना वायरस के संक्रमण से सबसे अधिक प्रभावित है जहां कोविड-19 से मृतकों की संख्या 53,511 हो गई है और कुल संक्रमितों की संख्या 9,24,576 से ज्यादा है। इनमें से 99,346 लोग संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। इटली कोविड-19 से दूसरा सबसे अधिक प्रभावित देश है जहां 26,384 लोगों की मौत के साथ 1,95,351 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है, जबकि 63,120 लोग इस बीमारी से निजात पा चुके हैं।
                                 
न्यूयॉर्क में सर्वाधिक मौतें : अमेरिका के न्यूयॉर्क में इस वायरस से सबसे अधिक 17,671 लोगों की मौत हुई और 2,71,890 लोग संक्रमित पाए गए। हालांकि अब ऐसा लग रहा है कि अमेरिका में संक्रमण का बुरा दौर बीत चुका है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस पर अपने नियमित व्हाइट हाउस संवाददाता सम्मेलन में कहा कि देशभर में संक्रमित पाए जाने वाले लोगों की संख्या कम हो गई है।
             
इसी प्रकार स्पेन में 2,23,759 लोग संक्रमित हुए हैं जिनमें से 22,902 लोगों की मौत हुई। फ्रांस में कोरोना वायरस के संक्रमण से 22,279 लोगों ने जान गंवाई है एवं कुल 1,59,952 मामलों की पुष्टि हुई है। ब्रिटेन में 20,380 मौतों के साथ कुल 1,49,554 लोग संक्रमित हुए हैं। चीन में जहां पर दिसंबर में सबसे पहले संक्रमण की शुरुआत हुई, वहां 4,636 लोगों की कोविड-19 से मौत हुई है और 83,901 लोग संक्रमित हुए हैं।
                                                                                               www.aaptak.net

No comments