Header Ads

AAP TAK NEWS : CANCER कैंसर रोगियों के लिए ज़्यादा घातक है कोरोना CRONA #



                                                  कोरोना वायरस का खतरा उन लोगों को ज्यादा है जिन्हें पहले से कोई ना कोई बीमारी है और इनमें से कोरोना सबसे ज़्यादा घातक साबित हो रहा है कैंसर रोगियों के लिए। कैंसर रोगियों को कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने का खतरा सबसे ज़्यादा है. वजह यह कि कैंसर रोगियों की रोग प्रतिरोधक क्षमता पहले ही कमजोर होती है.कीमो और अन्य थेरेपीज के चलते उनका शरीर काफी कमजोर होता है. ऐसे में कैंसर रोगियों में कोरोना वायरस का संक्रमण जानलेवा हो सकता है. कैंसर के जिन मरीजों की कीमोथैरेपी हो रही है या हो चुकी है, उन्हें उल्टी सहित अन्य समस्याएं भी रहती हैं. वे ठीक तरीके से भोजन नहीं ले पाते हैं. ज़्यादातर लिक्विड डाइट होते हैं. उनके अमाशय में भोजन पचने में वक़्त लगता है. ऐसे में भोजन से पर्याप्त ऊर्जा ना मिल पाने के कारण रोग से लड़ने में उनका शरीर शिथिल पड़ जाता है!



चीन के डाटा के अनुसार, कोरोना वायरस की वजह से जिन लोगों ने जान गंवाई हैं या गंभीर हालत में हैं, उनमें से ज़्यादातर पहले से ही किसी बीमारी से ग्रस्त थे, जिसकी वजह से उनका इम्यून सिस्टम काफी कमज़ोर था. गंभीर रूप से बीमार होने वाले 6% लोगों में, फेफड़े की सूजन इतनी गंभीर है कि शरीर को जीवित रहने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन प्राप्त करने के लिए संघर्ष करना पड़ता है.एक नई स्टडी के अनुसार कैंसर के वो मरीज जिनकी बीमारी का असर उनके खून और फेफड़े पर पड़ चुका हो या उनके पूरे शरीर में ट्यूमर फैल चुका हो, उनमें कैंसर ना होने वाले covid-19 के मरीजों की तुलना में मौत या अन्य गंभीर जटिलताओं का खतरा बहुत अधिक है.

इस स्टडी में चीन के हुबेई प्रांत के 14 अस्पताल शामिल हैं, जहां यह महामारी फैली। इनमें 105 कैंसर के मरीज और उसी उम्र के 536 वो मरीज थे जिन्हें कैंसर नहीं था. ये सभी मरीज  Covid-19 से पीड़ित थे. चीन, सिंगापुर और अमेरिका के डॉक्टरों ने अपनी स्टडी में पाया कि सिर्फ कोरोना के मरीजों की तुलना में कोविड -19 के कैंसर मरीजों की मृत्यु दर लगभग तीन गुना अधिक थी.स्टडी में कहा गया है कि बिना कैंसर वाले कोरोना के मरीजों की तुलना में कोरोना वाले कैंसर के मरीजों को देखभाल की ज्यादा जरूरत है, जैसे आईसीयू में भर्ती करना और वेंटिलेशन पर रखना. कैंसर का यह खतरा सिर्फ उम्र के हिसाब से नहीं बल्कि इस पर भी निर्भर करता है कि यह कौन सा कैंसर है, किस चरण में है और इसका इलाज कैसे किया जा रहा है.



इस स्टडी के निष्कर्षों से पता चलता है कि कोविड -19 के प्रकोप में कैंसर वाले मरीज आसानी से आ सकते हैं क्योंकि इम्यून सिस्टम कमजोर होने की वजह से उनमें संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा होता है.इस स्टडी को अमेरिकन एसोसिएशन फॉर कैंसर रिसर्च की वर्चुअल वार्षिक बैठक में जारी किया गया है और संगठन की समीक्षा पत्रिका के कैंसर डिस्कवरी अंक में इसका प्रकाशन हुआ है. इससे पहले की स्टडी में कैंसर और कोविड -19 के सिर्फ 18 मरीजों को शामिल किया गया था.विशेषज्ञों के अनुसार, कैंसर के मरीजों के अत्यधिक संवेदनशील होने के कई कारण हैं. कैंसर ना सिर्फ इम्यून सिस्टम पर दबाव डालता है बल्कि इसके मरीज जल्दीबूढ़े होने लगते हैं। यह दोनों लक्षण कोविड -19 के लिए खतरनाक हैं.
         ब्लड कैंसर जैसे ल्यूकेमिया, लिम्फोमा और माइलोमा इम्यून सिस्टम पर हमला करते हैं, मरीजों के प्राकृतिक रूप से बीमारी से लड़ने की क्षमता को कमजोर करते हैं और उनमें खतरनाक संक्रमण होने की प्रवृत्ति को बढ़ाते हैं!



                                                                            www.aaptak.net

No comments