Header Ads

AAP TAK NEWS :LOCKDOWN लॉकडाउन के बीच रेल टिकट बुक करने से पहले पढ़ लें IRCTC की शर्तें, मना करने वाले नहीं कर पाएंगे सफर ##


                           


                             बेंगलुरू जाने वाली विशेष रेलगाड़ी के यात्रियों द्वारा क्वारंटाइन (पृथक-वास) में जाने से इंकार करने के बाद आईआरसीटीसी ने निर्णय किया है कि जो लोग गंतव्य राज्यों के पृथक-वास प्रोटोकॉल का पालन करने पर सहमत होंगे, उन्हें ही वह अपने पोर्टल पर टिकट बुक करने की अनुमति देगा!
                                                    IRCTC Share Price: IRCTC Stock Gains 5%, Hits Upper Circuit As ...
                                                       

                                                 
                 
                                              नया नियम इसकी वेबसाइट पर लिखा है जिसमें लिखा है कि मैंने अपने गंतव्य राज्य की तरफ से जारी स्वास्थ्य परामर्श को पढ़ लिया है। मैं इसे स्वीकार करता हूं और इसका पालन करूंगा। इसमें यात्री को टिकट बुक करने के लिए 'मैं सहमत हूं पर क्लिक करना होगा।

                    दिल्ली से 14 मई को बेंगलुरू पहुंचे करीब 50 यात्रियों ने पृथक-वास केंद्र में जाने से इंकार कर दिया और स्टेशन पर हंगामा किया जिसके बाद यह नियम बनाया गया है। फी मान-मनौव्वल के बाद रेलवे ने एक अतिरिक्त बोगी जोड़कर पृथक-वास में जाने से इंकार करने वाले करीब 15 यात्रियों को वापस भेज दिया। यात्रियों ने अपने टिकट का भाड़ा दिया।

                                                       
           

                               

     

                                     आईआरसीटीसी के अधिकारियों के मुताबिक, टिकट बुक करने से पहले कंप्यूटर या मोबाइल स्क्रीन पर एक पॉप-अप आएगा जिसमें यात्रियों से पूछा जाएगा कि क्या उन्होंने गंतव्य राज्य का स्वास्थ्य परामर्श पढ़ा है और उसका पालन करने पर सहमत हैं।

               संदेश हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में दिखेगा। अगर यात्री असहमत होता है तो वह टिकट नहीं बुक कर सकेगा। विशेष राजधानी रेलगाड़ियां 15 बड़े शहरों और राष्ट्रीय राजधानी के बीच चल रही हैं।
                                                                       
                                                   

                                                                    www.aaptak.net

       

No comments