Header Ads

AAP TAK NEWS : महात्मा बुद्ध के Success Mantra ये 4 विचार, जीवन में हारे हुए योद्धा को देते हैं एक नया हौंसला !

आप जीवन के किसी भी कठिन दौर से क्यों न गुजर रहे हो लेकिन आपको संभालने के लिए उम्मीद की एक किरण ही काफी है।

गौतम बुद्ध ने अपना पूरा जीवन लोगों को ज्ञान का मार्ग दिखाने में बिताया। बुद्ध के अनुसार जीवन में हर कोई न कोई लड़ाई लड़ रहा है। ऐसे में एक योद्धा को
                                               
                                   
  www.aaptak.net

निडर होकर अपने कर्मों पर ध्यान देना चाहिए. वहीं, कभी-कभी जीवन में ऐसा मोड़ भी आता है जब योद्धा सारी उम्मीद खोकर लड़ाई से भाग जाना चाहता है। ऐसे
में बुद्ध अपने कर्मों को पूरा करने या किसी लड़ाई को जीतने के लिए कुछ बातें याद रखने को कहते हैं।

 # आपकी कल्पना ही आपकी सीमा है
बुद्ध कहते हैं आपको जब तक कोई नहीं रोक सकता जब तक कि आप अपनी सीमा निर्धारित न कर लें। ऐसे में आपको अपनी कल्पनाओं में हमेशा कुछ बड़ा सोचना है, जिससे कि आपमें कुछ अच्छा करने और आगे बढ़ने की ललक बने रहे।

                                                           
  www.aaptak.net


 # छोटी-छोटी चीजें आपके अच्छे दिन लाती हैं
बुद्ध किसी भी क्रिया या कर्म को छोटा नहीं मानते। वे कहते हैं कि जो काम आपको छोटा लग रहा है, वो एक दिन आपको दुनिया भर में पहचान दिलाएगा। ऐसे में छोटे-छोटे प्रयासों को बिल्कुल बंद न करें। हमेशा जीवन की छोटी-छोटी चीजों को पूरा करते हुए बड़े अर्थ साधें।



 # बीते हुए कल को आज पर हावी न होने दें
आपको बीते हुए कल को आज पर हावी नहीं होने देना है। बुद्ध के अनुसार बीते कल से आप आगे बढ़ने की प्रेरणा ले सकते हैं लेकिन बीता हुआ कल कभी भी पछताने, दुख मनाने के लिए नहीं होता। ऐसा करने से आपको दुख ही दुख मिलेगा और आप अपने कर्मों से भटक जाएंगे।

                                   
  www.aaptak.net

 # संघर्ष में अपनी ताकत तलाशें
आप जीवन में संघर्षों को परेशानियां नहीं बल्कि अपनी ताकत तलाशने के मौकों के रूप में देंखे। आप पाएंगे कि हर संघर्ष को पार करने के बाद आपका व्यक्तित्व काफी अच्छा हो जाएगा।                             
                     

                                                                 
                                                             
                                                                                 www.aaptak.net


       

No comments