Header Ads

AAP TAK NEWS : आज फिर झटके, दिल्ली में लगातार क्यों आ रहे भूकंप #


#  हाइलाइट्स

  • दिल्‍ली के पीतमपुरा में भूकंप के झटके, रिक्‍टर पैमाने पर 2.2 रही तीव्रता
  • इसी महीने की 10 और 3 तारीख को भी आया था भूकंप
  • अप्रैल में भी दो बार लगे भूकंप के झटके, टेंशन में दिल्‍ली वासी
  • दिल्‍ली है जोन-4 में, दूसरा सबसे खतरनाक जोन है ये इलाका
  • एक्‍सपर्ट्स के मुताबिक, टेक्टॉनिक प्‍लेट्स में टक्‍कर की वजह से आते हैं भूकंप



नई दिल्‍ली
राष्‍ट्रीय राजधानी एक बार फिर भूकंप के झटकों से घबरा गई। नैशनल सेंटर फॉर सीस्‍मोलॉजी (NCS) के मुताबिक, शुक्रवार को एक कम तीव्रता का भूकंप दिल्‍ली के पीतमपुरा में आया। रिक्‍टर स्‍केल पर इसकी तीव्रता 2.2 थी। यह भूकंप 11 बजकर 28 मिनट पर आया था। बहुत से लोगों को एहसास भी नहीं हुआ कि भूकंप का कोई झटका लगा है। मगर दिल्‍ली में पिछले दिनों भूकंप आने के मामले बढ़े हैं। अभी 10 मई को वजीरपुर में 3.5 तीव्रता का भूकंप आया था। उससे पहले 12 और 13 अप्रैल को भी दिल्ली में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।
                                              लॉकडाउन के बाद से अबतक चार भूकंप दिल्‍ली में आ चुके हैं।



 ## बार-बार भूकंप का शिकार हो रही दिल्‍ली
दिल्‍ली में अप्रैल-मई के भीतर पांच भूकंप आ चुके हैं। 10 मई को 3.4 तीव्रता वाली भूकंप का केंद्र सतह से पांच किलोमीटर की गहराई में स्थित था। इसमें किसी तरह के जानमाल के नुकसान की सूचना नहीं मिली। इसके अलावा 3 मई को भी एक हल्‍का भूकंप आया था। इससे पहले, 12 अप्रैल को दिल्ली-NCR में शाम 5:50 के करीब भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। इसके बाद 13 अप्रैल को फिर भूकंप आया था। इस दिन रिक्टर स्केल पर तीव्रता 2.7 दर्ज की गई थी। लॉकडाउन की वजह से लोग घरों में ही हैं, ऐसे में भूकंप के झटके आने पर पैनिक फैल गया था।

   # क्‍यों कांप रही दिल्‍ली की धरती?

                         NCS के हेड (ऑपरेशंस) जे एल गौतम ने टीओआई को बताया था कि पहले वाले दोनों भूकंप (12-13 अप्रैल) फॉल्‍ट-लाइन प्रेशर की वजह से आए, ऐसा नहीं लगता। उन्‍होंने कहा, "इन लोकल और कम तीव्रता वाले भूकंपों के लिए, फॉल्‍ट लाइन की जरूरत नहीं है। धरातल के नीचे छोटे-मोटे एडजस्‍टमेंट्स होते रहते हैं और इससे कभी-कभी झटके महसूस होते हैं। बड़े भूकंप फॉल्‍ट लाइन के किनारे आते हैं।"

 ## रिस्‍क जोन में है दिल्‍ली
भूकंप के मामले में दिल्‍ली बेहद संवेदनशील है। भूवैज्ञानिकों ने दिल्ली और इसके आसपास के इलाके को जोन-4 में रखा है। यहां 7.9 तीव्रता तक का भूकंप आ सकता है। दिल्ली में भूकंप की आशंका वाले इलाकों में यमुना तट के करीबी इलाके, पूर्वी दिल्ली, शाहदरा, मयूर विहार, लक्ष्मी नगर और गुड़गांव, रेवाड़ी तथा नोएडा के नजदीकी इलाके शामिल हैं।
   


                                                                            www.aaptak.net

No comments