Header Ads

AAP TAK NEWS :5JUNE विश्व पर्यावरण दिवस (World Environment Day) ##


                                                                    
                                     
                                                    

                                        विश्व पर्यावरण दिवस को पर्यावरण दिवस और ईको दिवस के नाम भी जाता है। ये वर्षों से एक बड़े वार्षिक उत्सवों में से एक है जो हर वर्ष 5 जून को अनोखे और जीवन का पालन-पोषण करने वाली प्रकृति को सुरक्षित रखने के लक्ष्य के लिये लोगों द्वारा पूरे विश्व भर में मनाया जाता है।
विश्व पर्यावरण दिवस 2019 की थीम "बीट एयर पॉल्यूशन" अर्थात “वायु प्रदूषण को हराएँ” है। यह विषय वायु प्रदूषण को रोकने के लिए कार्रवाई का एक आह्वान है जो अब वैश्विक संकट बन गया है। थीम को चीन ने चुना है जो विश्व पर्यावरण दिवस 2019 के लिए मेजबान है।
                                         
                                                                      
                                       
                                              

यह दिन हैशटैग #BeatAirPollution और #WorldEnvironmentDay के साथ विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर भी देखा गया।
संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) पर्यावरण की रक्षा के लिए दुनिया भर में विभिन्न जागरूकता अभियानों का आयोजन किया और दुनिया भर में लोगों को हमारे पर्यावरण और हमारे ग्रह को बचाने में अपना योगदान देने के लिए प्रोत्साहित किया।

                                         भारत में, भामला फाउंडेशन के साथ पर्यावरण मंत्रालय ने विश्व पर्यावरण दिवस पर ताजी हवा के महत्व पर जोर देते हुए एक गीत "थोडी हवा आने दे" जारी किया। गीत के लिए वीडियो में मनोरंजन और संगीत उद्योग से जुड़े कलाकार तथा अभिनेता जैसे अक्षय कुमार, कपिल शर्मा, शंकर महादेवन, सुनिधि चौहान, विक्की कौशल आदि हस्तियां शामिल थे।
                                                                    
                                    
                                                 
                                                 
                                                 
                                           पूरे विश्व में आम लोगों को जागरुक बनाने के लिये साथ ही कुछ सकारात्मक पर्यावरणीय कार्यवाही को लागू करने के द्वारा पर्यावरणीय मुद्दों को सुलझाने के लिये, मानव जीवन में स्वास्थ्य और हरित पर्यावरण के महत्व के बारे में वैश्विक जागरुकता को फैलाने के लिये वर्ष 1973 से हर 5 जून को एक वार्षिक कार्यक्रम के रुप में विश्व पर्यावरण दिवस (डबल्यूईडी के रुप में भी कहा जाता है) को मनाने की शुरुआत की गयी जो कि कुछ लोगों, अपने पर्यावरण की सुरक्षा करने की जिम्मेदारी सिर्फ सरकार या निजी संगठनों की ही नहीं बल्कि पूरे समाज की जिम्मेदारी है ।
                                                       1972 में संयुक्त राष्ट्र में 5 से 16 जून को मानव पर्यावरण पर शुरु हुए सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र आम सभा और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनइपी) के द्वारा कुछ प्रभावकारी अभियानों को चलाने के द्वारा हर वर्ष मनाने के लिये पहली बार विश्व पर्यावरण दिवस की स्थापना हुयी थी। इसे पहली बार 1973 में कुछ खास विषय-वस्तु के “केवल धरती” साथ मनाया गया था। 1974 से, दुनिया के अलग-अलग शहरों में विश्व पर्यावरण उत्सव की मेजबानी की जा रही है।

                        कुछ प्रभावकारी कदमों को लागू करने के लिये राजनीतिक और स्वास्थ्य संगठनों का ध्यान खींचने के लिये साथ ही साथ पूरी दुनिया भर के अलग देशों से करोड़ों लोगों को शामिल करने के लिये संयुक्त राष्ट्र आम सभा के द्वारा ये एक बड़े वार्षिक उत्सव की शुरुआत की गयी है।

                  भारत में, भामला फाउंडेशन के साथ पर्यावरण मंत्रालय ने विश्व पर्यावरण दिवस पर ताजी हवा के महत्व पर जोर देते हुए एक गीत "थोडी हवा आने दे" जारी किया। गीत के लिए वीडियो में मनोरंजन और संगीत उद्योग से जुड़े कलाकार तथा अभिनेता जैसे अक्षय कुमार, कपिल शर्मा, शंकर महादेवन, सुनिधि चौहान, विक्की कौशल आदि हस्तियां शामिल थे।
                                           सेंट्रल कोलफील्ड्स ने  विश्व पर्यावरण दिवस 2019 से पहले उत्सव को "बीट एयर पॉल्यूशन" विषय पर आधारित पेंटिंग और निबंध लेखन प्रतियोगिता के साथ शुरू किया, जो इस दिन का थीम भी था। सभी उम्र के छात्रों और बच्चों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया और सर्वश्रेष्ठ चित्रों और निबंधों को पुरस्कार भी वितरित किए गए।
1972 में संयुक्त राष्ट्र में 5 से 16 जून को मानव पर्यावरण पर शुरु हुए सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र आम सभा और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनइपी) के द्वारा कुछ प्रभावकारी अभियानों को चलाने के द्वारा हर वर्ष मनाने के लिये पहली बार विश्व पर्यावरण दिवस की स्थापना हुयी थी। इसे पहली बार 1973 में कुछ खास विषय-वस्तु के “केवल धरती” साथ मनाया गया था। 1974 से, दुनिया के अलग-अलग शहरों में विश्व पर्यावरण उत्सव की मेजबानी की जा रही है।

           कुछ प्रभावकारी कदमों को लागू करने के लिये राजनीतिक और स्वास्थ्य संगठनों का ध्यान खींचने के लिये साथ ही साथ पूरी दुनिया भर के अलग देशों से करोड़ों लोगों को शामिल करने के लिये संयुक्त राष्ट्र आम सभा के द्वारा ये एक बड़े वार्षिक उत्सव की शुरुआत की गयी है।

                                                                   
                                                             www.aaptak.net

No comments