Header Ads

AAP TAK NEWS :BHUबीएचयू में हो रहा है शव का हेराफेरी ##www.aaptak.net

                                                                          
                          
                                            
                                          वाराणसी के BHUबीएचयू अस्पताल में एक बड़ी हेरा-फेरी सामने आई जहां कोरोना की चपेट में आकर जान गंवाने वाले एसीएमओ जंग बहादुर के परिवार को एक दूसरे व्यक्ति का शव दे दिया. उन्होंने शव का अंतिम संस्कार भी शुरू कर दिया था तभी दूसरे परिवार वाले पहुंचे www.aaptak.net
 जिले के असिसटेंट चीफ मेडिकल ऑफिसर (ACMO ) जंगबहादुर की कोरोना वायरस की चपेट में आकर बीएचयू अस्पताल में मौत हो गई. ऐसे मेंअस्पताल में लापरवाही की वजह से एसीएमओ के परिवार के लोगों को पूर्व एसएचओ के पिता केशव चंद्र श्रीवास्तव का शव दे दिया गया. 
                                                                
                 
                                                                         
अस्पताल की ये लापरवाही उजागर होते ही हड़कंप मच गया. जब तक एसीएओ के परिवार को यह बात मालूम लगी वह दूसरे व्यक्ति के शव का अंतिम संस्कार कर चुके थे. अब श्रीवास्तव परिवार अस्पताल प्रशासन के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी कर रहा है  
एसीएमओ के बेटे ने इस संबंध में कहा है कि वे लोग सुबह 10 बजे बीएचयू पहुंचे थे. जहां बताया गया कि 12 नंबर के बक्से में एसीएमओ का शव है. उनका परिवार बक्सा लेकर सीधा घाट चला गया और पैक बॉडी के साथ ही अंतिम संस्कार शुरू कर दिया. 
इसी दौरान अर्दली बाजार के लोगों ने आकर उन्हें जानकारी दी. तक तक बॉडी आधी जल चुकी थी. इसके बाद एसएमओ के परिवार को उनकी बॉडी मिली जिसके बाद उन्होंने एसीएमओ का अंतिम संस्कार किया.
                                                                   
             
                                               
                                           वहीं मृतक केशव चंद्र श्रीवास्तव के बेटे और पूर्व एसएचओ अनुपम श्रीवास्तव ने कहा कि अस्पातल की लापरवाही की वजह से उनके पिता की मौत हुई है. उन्होंने कहा कि वे लंका थाने में इस बाबत मुकदमा कराने जाएंगे.
                                                                
                                                               www.aaptak.net

No comments