Header Ads

AAP TAK NEWS : प्रणब मुखर्जी पूर्व राष्ट्रपति की मौत की अफवाह उड़ी, बेटी शर्मिष्ठा बोलीं- ये झूठ है##

                                                                         
                                 
                                                                     
                                                                              
                                                                   ब्रेन क्लॉट सर्जरी के बाद देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं. अस्पताल में उनकी हालत नाजुक बनी हुई है. इसी बीच उनकी मौत की झूठी अफवाह उड़ गई. अब उनकी बेटी और कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति की मौत की खबर झूठी है. हालांकि उनकी तबीयत में मामूली सुधार है$
                                   बता दें कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत लगातार नाजुक बनी हुई है और वह जीवनरक्षक प्रणाली पर हैं. सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल ने बुधवार को एक बयान में कहा, ''प्रणब मुखर्जी की हालत लगातार नाजुक बनी हुई है. इस समय उनकी हालत रक्त प्रवाह के लिहाज से स्थिर है और वह वेंटिलेटर पर हैं.''

       $$ स्थिति में अभी तक कोई सुधार नहीं
      84 वर्षीय देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को सोमवार को सैन्य अस्पताल में भर्ती कराया गया था और मस्तिष्क की सर्जरी से पहले उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी. उन्हें देख रहे डॉक्टरों ने कहा कि मंगलवार को पूर्व राष्ट्रपति की हालत बिगड़ गई और उनकी स्थिति में सुधार का कोई लक्षण नहीं दिखा है.

            $$ शर्मिष्ठा मुखर्जी ने की मंगलकामना
                                                                     
                                                     पूर्व राष्ट्रपति की बेटी और कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने अपने पिता के स्वास्थ्य के लिए भगवान से प्रार्थना की. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘पिछले साल आठ अगस्त का दिन मेरे लिए सर्वाधिक प्रसन्नता के दिनों में से एक था जब मेरे पिता को भारत रत्न मिला था. ठीक एक साल बाद 10 अगस्त को वह गंभीर रूप से बीमार हो गए.’’                             
                                                                                
                                                                    www.aaptak.net

No comments