Header Ads

AAP TAK NEWS :गल्ला व्यवसायी की निर्मम हत्या से वैश्य महासभा दुःखी।

                                                               
   
                                                                             
          
                                              सारण जिले के सोनपुर प्रखंड स्थित नयागांव थाना क्षेत्र के हसनपुर ग्राम में अपने आवासीय परिसर में गल्ले का व्यवसाय कर रहे, गणेश जयसवाल के 35 वर्षीय पुत्र सरोज जयसवाल की अपाची मोटरसाइकिल से आए तीन अपराधियों में से एक के द्वारा, दुकान में घुसकर रुपए-पैसे वाला गल्ला लूटने के क्रम में, गोली मारकर की गई हत्या की घटना से स्तब्ध होकर, सारण जिला राष्ट्रीय वैश्य महासभा, छपरा के अध्यक्ष वीरेंद्र साह मुखिया अपने पदाधिकारियों के साथ, शोक संतप्त परिजनों से मिलने मृतक के घर पहुंचे। परिवारजनों ने वैश्य महासभा के पदाधिकारियों को बताया कि लुटेरे गल्ला लूटने के इरादे से ही उनके दुकान पर आए थे। लेकिन जब सरोज जयसवाल रुपयों-पैसों से भरे गले को लूटेरे से छीन कर घर में भागने लगे तो पीछे से उस अपराधी ने सरोज जयसवाल को गोली मार दी। जिससे वह भागते हुए गिर गए और अपने बड़े भाई से बोले कि उन्हें गोली मार दी गई है। जब तक लोग संभलते तबतक मौका पाकर अपराधी मोटरसाइकिल से भाग निकले थे। पीएमसीएच पटना में जब वे लोग घायल सरोज जयसवाल को लेकर पहुंचे तो डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। चारों तरफ कोहराम मच गया। पांच भाइयों में सरोज जयसवाल तीसरे नंबर पर थे। 
                                 मृतक अपने पीछे पत्नी संगीता जयसवाल, 14 वर्षीय पुत्र शुभम कुमार,दो बेटियां-12 वर्षीय शिवानी कुमारी, 10 वर्षीय अंशु कुमारी तथा दो बड़े भाई विनोद जयसवाल व सुबोध जयसवाल और दो छोटे भाई धर्मवीर जयसवाल व संदीप जयसवाल छोड़ गए हैं। सरोज जयसवाल की बेखौफ अपराधियों द्वारा गोली मारकर की गई निर्मम हत्या से परिवारजनों के साथ-साथ आसपास के सारे लोग गमनीन,हतप्रभ एवं आश्चर्यचकित हैं। वहां का व्यवसाई वर्ग डरा हुआ हैं यह सोच कर कि न जाने कब मृतकों की सूची में उनका नंबर आ जाए । इस जिले में जिला प्रशासन का एकबाल लगभग समाप्त हो चला है ।अपराधी वर्ग नित्य नए व्यवसाई को आज यहां, कल वहां गोली मारकर बेखौफ घूम रहे हैं।   
                                                                           
   
                                                                                 
 
      लूट और हत्या का यह दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। सारण जिला राष्ट्रीय वैश्य महासभा, छपरा के अध्यक्ष वीरेंद्र साह मुखिया इस युवा गल्ला व्यवसाई की निर्मम हत्या से नि:शब्द हो गए हैं। उन्हें अब समझ में ही नहीं आ रहा है कि इस लॉकडाउन एवं कोरोना काल में व्यवसायियों के नित्य नए हत्या का यह दौर कहां जाकर और कबतक समाप्त होगा? कैसे सारण जिला के व्यापारी अपने प्राण बचाते हुए इस लॉकडाउन के भीषण परिस्थिति में अपना व्यवसाय कर अपने परिवारजनों का भरण पोषण कर सकेंगे? आज उनके समक्ष यह यक्ष-प्रश्न बन चुका है। मृतक के परिजनों के बीच से ही अपने दूरभाष से संपर्क स्थापित कर वीरेंद्र साह मुखिया ने नयागांव थाना प्रभारी अरविंद कुमार को बुलाया एवं अपराधी द्वारा छोड़े गए दुकान के बाहर उसके चप्पल को दिखाया और कहा कि इसे सुरक्षित रखें।जांच एवं अनुसंधान के कार्य में यह अपराधियों द्वारा छोड़ा गया चप्पल मदद कर सकता है। डीएसपी ए दत्ता से भी उन्होंने बातचीत की तथा सारण एसपी हरकिशोर राय से मोबाइल पर बात करके उनसे श्वान दस्ता भेजने की मांग की जिस पर उन्होंने तुरंत श्वान दस्ता भेजने की बात कही। मृतक के परिजनों से मिलने और ढांढस बंधाने सारण जिला राष्ट्रीय वैश्य महासभा छपरा के अध्यक्ष वीरेंद्र साह मुखिया के साथ महासचिव छठी लाल प्रसाद, प्रवक्ता चंदन प्रसाद ब्याहुत, कन्हैया कुमार, संगठन मंत्री राम नारायण साह, पूर्व उप प्रमुख मोहन साह स्वर्णकार, धूपेंद्र साह, रवि कुमार, अमित चौरसिया, उपेंद्र कुमार, पारसनाथ प्रसाद शिक्षक, बीडीसी विपिन साह, पूर्व प्रमुख पति पशुपति साह आदि थे।
                                                                              
                                              www.aaptak.net

No comments