Header Ads

छपरा उर्से नेअमतुल उलमा का हुआ आयोजन।

                                  
छपरा- ज़िला के कोने कोने में जिस महान शख्शियत ने इल्मे दीन व इश्के मुस्तफ़ा की रौशनी फैलाई और मज़हबे इस्लाम की असल हक़ीक़त से रूबरू कराया जिन्हें दुनियाएं इल्मो अदब आशिके मुस्तफ़ा हज़रत अल्लामा अल्हाज अश्शाह हुज़ूर मौलाना नईमुद्दीन नेअमतुल उलमा के नाम से जानती है ,आज तारीख़ 04 अप्रैल 2021 को उनके सालाना उर्से पाक का आयोजन बेहद अक़ीदत व एहतराम के साथ किया गया,हिंदुस्तान के मशहूर उलेमा व शायरों ने शिरकत कर अपनी तक़रीर व शायरी के ज़रिए उनसे अक़ीदत का इज़हार किया,उर्से नेअमतुल उलमा का संचालन हाजी मौलाना नेसार मिस्बाही व प्रसिद्ध इस्लामी जलसा एनाउंसर हाफ़िज़ साहेब रज़ा ख़ान छपरवी ने किया,मदरसा दारुल उलूम नईमिया जामा मस्जिद साहेबगंज शहर छपरा के 8 आलिमों व 10 हाफिज़ो की दस्तारबंदी आले रसूल सय्यद ताबिश अशरफ व मौलाना सनाउल मुस्तफ़ा ने पगड़ी बांध कर किया।पूरी रात उलेमाओं ने तक़रीरें व नातख़्वानी पेश कर के बेहतरीन समा बांध दिया था,पटना से आए मुख्य वक्ता अल्हाज मौलाना सनाउल मुस्तफ़ा ने कहा कि अल्लाह के वलियों से मोहब्बत रखना क़ुरआन का हुक्म है और जहां वलियों की आरामगाह होती है उस पूरे क्षेत्र में अल्लाह की रहमतें बरसती है,इस अवसर पर हुज़ूर नेअमतुल उलमा के पोता जनाब जिलानी मोबिन व मदरसा के संरक्षक हाजी राहतून नईम ने सभी बच्चों को नेक दुआए दी,मदरसा शिक्षक मौलाना मुर्शिद अमजदी,मुफ़्ती हामिद रज़ा,हाफ़िज़ कौसर नईमी व उर्स कमिटी के वज़ीर राईन,हाजी सलाहुद्दीन,सलीम मोबीन,डॉ एपीजे अब्दुल कलाम राष्ट्रीय शांती अमन सेना के संस्थापक संयोजक डॉ तशफ्फी हुसैन शाहेदीन, शहादत राईन समेत सैंकड़ों अकीदतमंदों ने हाज़री देकर हज़रत मौलाना नईमुद्दीन साहब के प्रति अपनी श्रद्धा के फूल व चादर पेश किया।

No comments