Header Ads

BIHAR मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने बिहारवासियों से कोरोना महामारी के खिलाफ एकजुट होकर दृढ़ इच्छााक्ति और सकारात्मक सोच के साथ मुकाबला करने की अपील!!

                                                              
 मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने बिहारवासियों से कोरोना महामारी के खिलाफ एकजुट होकर दृढ़ इच्छााक्ति और सकारात्मक सोच के साथ मुकाबला करने की अपील की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने पहले भी राज्य में कोरोना की स्थिति के बारे में बताया था और कोरोना संक्रमण में वृद्धि की जानकारी दी थी। इसे देखते हुये कोरोना जाॅच को और बढ़ाते हुये अब 01 लाख 25 हजार से अधिक जांच प्रतिदिन किया जा रहा है। अब कोरोना मरीज की संख्या में प्रतिदिन कमी भी आ रही है। 
 मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुये 05 मई से 15 मई 2021 तक बिहार में लाॅकडाउन लगाया गया। 13 मई को सहयोगी मंत्रीगण एवं पदाधिकारियों के साथ बिहार में लागू लाॅकडाउन की स्थिति की समीक्षा की गयी। लाॅकडाउन के सकारात्मक प्रभाव को देखते हुये अगले 10 दिनों अर्थात 16 से 25 मई 2021 तक लाॅकडाउन को विस्तारित करने का निर्णय लिया गया। उन्होंने कहा कि जब से लाॅकडाउन लागू किया गया है, हमलोग सभी का ध्यान रख रहे हैं। किसी की उपेक्षा नहीं की गयी है और पूरी कोशिश है कि हर जरूरतमंद तक सहायता पहुॅचे। इसके लिए कार्यरत टीम पूरी लगन एवं परिश्रम के साथ लगी हुयी है। 
 मुख्यमंत्री ने कहा कि 17 मई को 22 जिलों के सामुदायिक किचेन का वर्चुअल टूर के माध्यम से वहाॅ चलायी जा रही है व्यवस्थाओं का जायजा लिया गया और कई लाभार्थियों से बातचीत की गयी। जिलों के कई लाभार्थियों ने कहा कि सामुदायिक किचेन के माध्यम से अच्छा खाना मिल रहा है और कई लोगों ने यह भी कहा कि हमलोग खाना अपने बच्चों तथा बुजुर्गाें के लिये घर पर भी ले जाते हैं। लाभार्थियों ने सीधे संवाद के दौरान बताया कि सरकार ने इस परिस्थिति में जो कदम उठाये हैं, वह सराहनीय है। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी 38 जिलों में 432 सामुदायिक किचेन चलाये जा रहे हैं। हमने सामुदायिक किचेन को विस्तारित करते हुये हर प्रखण्ड में सामुदायिक किचेन खोलने का निर्देश दिया है ताकि अधिक से अधिक जरूरतमंद इसका लाभ उठा सकें। सरकार की मंशा है कि लाॅकडाउन में मजदूर, निर्धन, निराश्रित, निःशक्त एवं जरूरतमंदों को दोनों वक्त शुद्ध भोजन मिले एवं कोई भूखा न रहे। 
                                     मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी सरकारी अस्पतालों में रोगियों के परिजनों के लिये भी सामुदायिक किचेन के माध्यम से भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। होम आइसोलेसन में रहने वाले कोविड मरीजों एवं उनके परिजनों के लिये भोजन की व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है। साथ ही सामुदायिक किचेन में आने वाले बच्चे-बच्चियों के लिये दूध की भी व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि कोरोना के रोगी जो घर पर आइसोलेसन में रहकर ईलाजरत हैं, उनके शरीर का तापमान एवं आक्सीजन स्तर नियमित तौर पर सवस्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा लिये जाने की शुरूआत की गयी है। जिन मरीजों का आक्सीजन स्तर कम होगा, उनका चिकित्सीय पर्यवेक्षण में ईलाज कराया जायेगा और जरूरत पड़ने पर अस्पताल में भर्ती कराया जायेगा।
 मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे विश्वास है कि दृढ़ इच्छााक्ति, सकारात्मक सोच के साथ बिहारवासी कोरोना के खिलाफ इस जंग में अवय सफल होंगे। 
 *मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील करते हुये कहा कि सभी मास्क जरूर लगायें, 2 गज की दूरी बनाये रखें, हाथ साफ रखें और समय आने पर टीका अवश्य लगायें।

No comments