Header Ads

बिहार-विधवा भाभी से शादी कर देवर ने कायम की मिसाल सात फेरे लेने के बाद भी घर वालों ने निकाल दी

                                    
संवाददाता संजय भारद्वाज
                                          बिहार छपरा सगे देवर ने अपने विधवा भाभी से शादी रचाकर उसे नई जिंदगी दी है। लेकिन यह बात उसी के घर वालों को स्वीकार नहीं है। जहां एक तरफ समाज कहते हैं की समाज का सहारा बनो वही समाज में सहारा बने हुए देवर और भाभी वर्तमान पति पत्नी के रूप में घरवालों ने इन्हें इस रिश्ते को स्वीकार ना तो दूर इन दोनों को घर से भी बच्चा समेत निकाल दिया गया। मामला मसरख थाना क्षेत्र के भंगड़ा पंचायत के हनसा फिर गांव में एक नवयुवक ने समाज में अच्छी सोच को ध्यान में रखते हुए अपने मृत बड़े भाई की विधवा पत्नी से शादी किया पर उनके घर वाले शादी से नाखुश घर से बाहर निकाल दिया। उसके बाद पति पत्नी और 2 साल के बच्चे के साथ मसरख थाना पुलिस के पास पहुंच कर अपनी आपबीती बताई और गुहार लगाई। साहब हमें न्याय चाहिए। मामले में थाना अध्यक्ष राजेश कुमार ने कार्रवाई करते हुए तत्काल पति पत्नी और बच्चे के साथ बगल के चाचा के घर में रखवा दिया है। वही अगले दिन ही बच्चा का कपड़ा मकान से जाकर निकालने पर जमकर मारपीट की गई। जिसमें पति को बचाने के लिए बहन भी घायल हो गई जिन्हें उपचार के लिए पब्लिक हेल्थ सेंटर मसरख में एडमिट कराया गया जहां जख्मी की पहचान पप्पू कुमार पिता का नाम रामचंद्र राम और विवाहिता बहन बनियापुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पिठोरी निवासी संजय राम की धर्मपत्नी उर्मिला देवी के रूप में हुई है। मामले में घायल बहन ने बताया कि उसको अपना तीन भाई है धर्मेंद्र राम विनोद राम, पप्पू राम प्राप्त जानकारी के अनुसार बहन ने बताया कि 3 साल पहले सोनी देवी से हमारे बड़े भाई धर्मेंद्र राम की शादी हुई थी लेकिन उनका तबीयत खराब रहता था जिसके कारण उनका देहांत हो गया। मृत्यु होने के बाद विधवा पर मानव दुखों का पहाड़ टूट पड़ा उसके सामने एक बेटा जो 2 साल का है उसकी परवरिश को लेकर मुश्किल हो गई। वहीं परिजनों ने छोटे भाई पप्पू की शादी तय करने लगे जिसका विरोध कर भाई पप्पू राम ने बीते महीने पहले अपने सगे भाभी सोनी से शादी कर ली जिसका परिवार वालों ने विरोध करना शुरू कर दिया बाद में विरोध मारपीट का रूप लेने लगा और इसके साथ साथ मारपीट के अलावे उसे घर से भी निकाल दिया गया जिसमें मामले में मामला थाना तक पहुंच गया उसके बाद न्याय की गुहार लगाई गई। पुलिस ने अपने सामाजिकता के तौर पर बहुत बड़ी कार्य किया जो उसको उसके ही रिश्तेदार चाचा के मकान में रखवा दिया।

No comments